अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर आधारित 35 वस्तुनिष्ठ प्रश्न | International Trade Se Related 35 MCQ in hindi

अंतर्राष्ट्रीय व्यापार संबंधी वैकल्पिक प्रश्नोत्तरी | अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर आधारित ऑब्जेक्टिव प्रश्न इन हिंदी | अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर आधारित 35 MCQ इन हिंदी




इस अंक में आप अंतर्राष्ट्रीय व्यापार से जुड़े 35 वैकल्पिक प्रश्न (antarrashtriya  vyapar se jude 35 vaikalpik prashna) का अध्ययन करेंगे। तो चलिए जानते हैं कि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर आधारित वस्तुनिष्ठ प्रश्नों की ये प्रश्नोत्तरी आपके लिए किस तरह उपयोगी साबित होती है।


प्रश्न 1 - एडम स्मिथ द्वारा प्रतिपादित स्वतंत्र व्यापार का केन्द्र बिंदु रहा है -
(a) विदेशी सहयोग 
(b) श्रम विभाजन 
(c) मांग एवं पूर्ति की शक्ति
(d) राजकीय नियंत्रण में कमी

Ans - (b) श्रम विभाजन


प्रश्न 2 - जब देश अवमूल्यन करके निर्यात तथा आयात कर लेता है तो उसके भुगतान संतुलन की प्रतिकूलता - 
(a) अधिक हो जाती है
(b) समाप्त हो जाती है
(c) समाप्त होकर साम्य की ओर बढ़ने लगती है
(d) इनमें से कोई नहीं

Ans - (c) समाप्त होकर साम्य की ओर बढ़ने लगती है


प्रश्न 3 - मुद्रा अवमूल्यन तब अच्छा माना जाता है जब,
(a) इसे अल्पकालीन ब्याज़ दरों में कमी के साथ अपनाया जाता है।
(b) अवमूल्यन करने वाले देश के निर्यातों की विदेशी मांग लोचदार होती है
(c) अवमूल्यन करने वाले राष्ट्र के निर्यातों की विदेशी मांग बेलोचदार है
(d) अवमूल्यन हमेशा ही अच्छा माना जाता है।

Ans - (b) अवमूल्यन करने वाले देश के निर्यातों की विदेशी मांग लोचदार होती है।


प्रश्न 4 - भुगतान संतुलन की प्रतिकूलता अल्पकाल अथवा दीर्घकाल के लिए ही उत्पन हो सकती है किंतु लगातार असमानता से यह बात स्पष्ट होती है कि देश की आर्थिक एवं वित्तीय व्यवस्था - 
(a) शून्य की ओर अग्रसर हो रही है
(b) सुदृढ़ता की ओर अग्रसर हो रही है
(c) दिवालियेपन की ओर अग्रसर हो रही है
(d) इनमें से कोई नहीं 

Ans - (c) दिवालियेपन की ओर अग्रसर हो रही है



प्रश्न 5 - भुगतान संतुलन के साम्य की स्थिति में देश की मांग - 
(a) उसकी पूर्ति से कम होगी
(b) उसकी पूर्ति से अधिक है
(c) उसकी पूर्ति के बराबर है
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Ans - (c) उसकी पूर्ति के बराबर है


प्रश्न 6 - दृश्य व्यापार के लेखा जोखा को कहते हैं - 
(a) विदेशी विनिमय
(b) तलपट (बेलेंस शीट)
(c) भुगतान संतुलन 
(d) व्यापार संतुलन

Ans - (d) व्यापार संतुलन


प्रश्न 7 - कोई देश जब अपने अति उत्पादन से छुटकारा पाने के लिए दूसरे देश में अपने प्रोडक्ट बहुत नीची कीमतों पर बेचता है - 
(a) अवमूल्यन (Under valuation)
(b) अधिमूल्यन (Over valuation)
(c) राशिपातन (Dumping)
(d) विनिमय नियंत्रण (Exchange control)

Ans - (c) राशिपातन (Dumping)


प्रश्न 8 - आन्तरिक व अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में एक समानता क्या है - 
(a) दोनों में प्रतिबंध होते है
(b) दोनों में भाषा का अंतर होता है
(c) दोनों में क्रेता एवं विक्रेता होते हैं
(d) दोनों में मुद्रा की इकाई अलग अलग होती हैं

Ans - (c) दोनों में क्रेता एवं विक्रेता होते हैं


प्रश्न 9अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लाभ किससे प्रभावित होते हैं - 
(a) विक्रय संगठन की क्षमता से
(b) व्यापार की शर्तों से
(c) लागतों के तुलनात्मक अंतर से
(d) उपर्युक्त सभी से

Ans - (d) उपर्युक्त सभी से



प्रश्न 10 - राशिपातन तभी संभव है - 
(a) जब दोनों बाज़ारों में पूर्ण प्रतियोगिता हो
(b) जब निर्यात के लिए पर्याप्त सामान न हो
(c) जब दोनों बाज़ारों में एक ही फर्म का एकाधिकार हो
(d) जब आंतरिक बाज़ार में मांग की लोच कम तथा शेष विश्व के बाज़ार में अधिक हो

Ans - (d) जब आंतरिक बाज़ार में मांग की लोच कम तथा शेष विश्व के बाज़ार में अधिक हो।


प्रश्न 11 - अवसर लागत से क्या तात्पर्य है - 
(a) उस वस्तु का वैकल्पिक संयोग
(b) विभिन्न वस्तुओं के मध्य विनिमय दर 
(c) एक वस्तु का उत्पादन प्राप्त करने के लिए अन्य वस्तु के वैकल्पिक उत्पादन का त्याग 
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Ans - (c) एक वस्तु का उत्पादन प्राप्त करने के लिए अन्य वस्तु के वैकल्पिक उत्पादन का त्याग।


प्रश्न 12अंतर्राष्ट्रीय व्यापार तब संभव नहीं होगा जबकि दो देशों में उत्पादन संभावना रेखा होती है - 
(a) समान ढाल वाली
(b) क्षैतिज ढाल वाली
(c) असमान ढाल वाली
(d) लंबवत

Ans - (a) समान ढाल वाली


प्रश्न 13 - अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए अलग सिद्धान्त की आवश्यकता पड़ी, क्योंकि - 
(a) ऐसा प्रसिद्ध अर्थशास्त्री चाहते थे
(b) उत्पादन के साधन सभी स्तरों पर गतिशील होते हैं
(c) उत्पादन के साधन सभी स्तरों पर गतिहीन होते हैं
(d) उत्पादन के साधन एक देश में गतिशील एवं विदेशी स्तर पर गतिहीन हो जाते हैं

Ans - (d) उत्पादन के साधन एक देश में गतिशील एवं विदेशी स्तर पर गतिहीन हो जाते हैं


प्रश्न 14 - अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार से लाभ तब होता है जबकि दोनों देशों में उत्पादन सम्भावना रेखा का ढाल निम्न आकार का होगा - 
(a) एक सीधी रेखा में
(b) समान ढाल
(c) असमान ढाल
(d) लम्बवत हो 

Ans - (c) असमान ढाल


प्रश्न 15 - रिकार्डो के तुलनात्मक लागत सिद्धान्त में निम्न में से क्या कमियां थीं -
(a) मुक्त व्यापार की कल्पना
(b) परिवहन लागतों की उपेक्षा
(c) पूर्ण रोजगार की अवधारण
(d) उपरोक्त सभी

Ans - (d) उपरोक्त सभी।



प्रश्न 16 - रिकार्डो के तुलनात्मक लागत सिद्धान्त में क्या क्या सुधार किए गए - 
(a) लागतों को मुद्रा में व्यक्त करना
(b) क्रमागत उत्पत्ति ह्रास एवं वृद्धि नियमों को महत्व
(c) मांग की लोच को महत्व
(d) उपरोक्त सभी 

Ans - (c) मांग की लोच को महत्व


प्रश्न 17 - औटार्की ( Autarky ) से आशय है - 
(a) एक ही लाइन एवं दो देशों द्वारा एक एक वस्तु बनाना और आपस में विनिमय कर लेना 
(b) प्रत्येक देश द्वारा स्वयं उत्पादन एवं उपभोग करना अर्थात् अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार का कोई अस्तित्व नहीं
(c) उत्पादन के लिए अनुकूल वातावरण देना
(d) अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए अनुकूल वातावरण देना

Ans - (b) प्रत्येक देश द्वारा स्वयं उत्पादन एवं उपभोग करना अर्थात् अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार का कोई अस्तित्व नहीं


प्रश्न 18 - अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए सापेक्षिक साधन उपलब्धता के विचार को देने का श्रेय है -
(a) एडम स्मिथ को
(b) जे . एस . मिल को
(c) डेविड रिकार्डो को
(d) बर्टिल ओहलिन को

Ans - (d) बर्टिल ओहलिन को


प्रश्न 19 - अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार का अवसर लागत का सिद्धान्त निम्न में किस मान्यता पर आश्रित है - 
(a) श्रम की सभी इकाइयां समान हैं
(b) श्रम ही उत्पादन का एक मात्र साधन है
(c) श्रम के रूप में लागत को व्यक्त किया जा सकता है।
(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

Ans  - (d) उपरोक्त में से कोई नहीं


प्रश्न 20 - रिकार्डो के तुलनात्मक लागत सिद्धान्त में निम्न में से क्या कमियां थीं - 
(a) मुक्त व्यापार की कल्पना
(b) परिवहन लागतों की उपेक्षा
(c) पूर्ण रोजगार की अवधारणा
(d) उपरोक्त में से सभी

Ans - (d) उपरोक्त में से सभी


प्रश्न 21 - भुगतान सन्तुलन सदैव सन्तुलन में होते हैं का अर्थ है कि-
(a) दोनों खातों का योग समान होता है
(b) भुगतान सन्तुलन में चालू खाता एवं प्रथक प्रथक सन्तुलन में होते है
(c) समस्त लेनदारियां एवं देनदारियां वास्तविक अर्थों में समान होती हैं
(d) केवल डबल एन्ट्री बनाने के लिए यह एक विधि है जिसमें शुद्ध घाटे अथवा अतिरेक को समायोजित करने के लिए एक विपरीत एन्ट्री कर दी जाती है

Ans  - (d) केवल डबल एन्ट्री बनाने के लिए यह एक विधि है जिसमें शुद्ध घाटे अथवा अतिरेक को समायोजित करने के लिए एक विपरीत एन्ट्री कर दी जाती है



प्रश्न 22 - व्यापार सन्तुलन - 
(a) भुगतान सन्तुलन + विशुद्ध अदृश्य मदें
(b) भुगतान सन्तुलन - विशुद्ध अदृश्य मदें
(c) भुगतान सन्तुलन + विशुद्ध अदृश्य मदें
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Ans - (b) भुगतान सन्तुलन - विशुद्ध अदृश्य मदें


प्रश्न 23 - जब एक देश दूसरे देश की अपेक्षा दोनों ही वस्तुएं कम लागत पर उत्पादित करता है और उसके व्यय में अन्तर का अनुपात बराबर रहे तो इसे - 
(a) उत्पादन व्यय में तुलनात्मक अन्तर कहेंगे
(b) उत्पादन व्यय में समान अन्तर कहेंगे
(c) उत्पादन व्यय में पूर्ण अन्तर कहेंगे
(d) उपर्युक्त में कोई नहीं

Ans - (b) उत्पादन व्यय में समान अन्तर कहेंगे


प्रश्न 24 अधिकांश विद्वान स्वतन्त्र व्यापार के पक्ष में तर्क देते हैं इसका कारण यह है कि-
(a) विकसित देशों के लिए लाभप्रद है
(b) सभी देशों में विशिष्टीकरण और श्रम विभाजन को प्रोत्साहन मिलने के साथ विश्व के उत्पादन स्तर और उसमें कुशलता को बढ़ाता है
(c) सभी देश अनावश्यक खर्चों से बच जाते हैं
(d) स्वतन्त्र व्यापार विकासशील देशों के लिए उपयुक्त है

Ans -  (b) सभी देशों में विशिष्टीकरण और श्रम विभाजन को प्रोत्साहन मिलने के साथ विश्व के उत्पादन स्तर और उसमें कुशलता को बढ़ाता है


प्रश्न 25 - जे. एस. मिल ने रिकार्डो के सिद्धान्त में संशोधन कर जो सिद्धान्त प्रस्तुत किया उसे - 
(a) पारस्परिक मांग का सिद्धान्त (Theory of Reciprocal Demand) कहते हैं
(b) सापेक्षिक सिद्धान्त कहते हैं
(c) लागतों का सिद्धान्त कहते हैं
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Ans - (a) पारस्परिक मांग का सिद्धान्त (Theory of Reciprocal Demand) कहते हैं



प्रश्न 26 - प्रत्येक देश उसी वस्तु के उत्पादन में विशिष्टता प्राप्त करता है -
(a) जिसके उत्पादन में उसका उत्पादन व्यय अधिक रहता है
(b) जिसके उत्पादन में उसका उत्पादन व्यय कम रहता है (c) जिसके उत्पादन में लागत शून्य हो
(d) जिसके उत्पादन में उत्पादन कम बदलता रहता हो

Ans - (b) जिसके उत्पादन में उसका उत्पादन व्यय कम रहता है


प्रश्न 27 - भुगतान सन्तुलन के विवरण प्रारूप में - 
(a) वस्तुओं का आयात विकलन (Debit) पक्ष का मद है
(b) वस्तुओं का आयात समाकलन (Credit) पक्ष का मद है
(c) वस्तुओं का आयात विकलन - समाकलन दोनों में शामिल होता है
(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

Ans - (a) वस्तुओं का आयात विकलन (Debit) पक्ष का मद है


प्रश्न 28 -  आयात कर लगाने या इसमें वृद्धि करने से विदेशी वस्तुएं देश में महंगी हो जाती हैं जिससे इनकी मांग कम हो जाती है -
(a) और आयात बढ़ जाता है
(b) और आयात घट जाता है
(c) और निर्यात बढ़ जाता है
(d) और निर्यात घट जाता है

Ans - (b) और आयात घट जाता है


प्रश्न 29 - व्यवहारिक दृष्टि से क्रयशक्ति सिद्धांत टकसाली सिद्धांत पर एक सुधार है - 
(a) सुधार है
(b) प्रहार है
(c) बोझ है
(d) वस्तु स्थिति को समझने का तरीक़ा है

Ans - (a) सुधार है



प्रश्न 30 - भूगतान शेष सिद्धांत द्वारा असंतुलन की स्थिति में विनिमय दर में मामूली परिवर्तन किया जाता है - 
(a) अवमूल्यन द्वारा
(b) पुनर्मुल्यन द्वारा
(c) आंतरिक क्रयशक्ति में परिवर्तन द्वारा
(d) उपरोक्त तीनों के द्वारा

Ans - (d) उपरोक्त तीनों के द्वारा


प्रश्न 31 - हेजिंग का क्या अर्थ होता है - 
(a) ब्याज़ अंतर्पणन 
(b) विनिमय अंतर्पणन
(c) विदेशी विनिमय का सट्टा
(d) विदेशी विनिमय जोख़िम को पाटना 

Ans - (d) विदेशी विनिमय जोख़िम को पाटना 


प्रश्न 32 - वर्तमान समय में विनिमय दर का निर्धारण कैसे कैसे  होता है - 
(a) IMF द्वारा
(b) IBRD द्वारा 
(c) WTO द्वारा 
(d) विदेशी मुद्रा बाज़ार में विदेशी मुद्रा की मांग और पूर्ति द्वारा 

Ans - (d) विदेशी मुद्रा बाज़ार में विदेशी मुद्रा की मांग और पूर्ति द्वारा 



प्रश्न 33 - व्यापार की दिशा को निर्धारित करने वाला तत्व है - 
(a) तुलनात्मक लाभ
(b) निरपेक्ष लाभ
(c) विनिमय दर
(d) उपयुक्त तीनों 

Ans - (a) तुलनात्मक लाभ


प्रश्न 34 - समायोजन पूंजी प्रवाह (Accomodatiing Capital Movement) तब होता है जब कि,
(a) भुगतान संतुलन को बहीखाते की दृष्टि से समान करना होता है।
(b) समायोजन पूंजी प्रवाह का भुगतान संतुलन के घाटे या अतिरेक से कोई संबंध नहीं होता है
(c) जब भी भुगतान संतुलन में घाटा होता है यह एंट्री स्वयमेय हो जाती है
(d) उपर्युक्त में से कोई भी नहीं

Ans -(a) भुगतान संतुलन को बहीखाते की दृष्टि से समान करना होता है।


प्रश्न 35 - क्रय शक्ति समता सिद्धांत से क्या आशय है?
(a) किसी देश की मुद्रा का मूल्य उसकी क्रयशक्ति पर निर्भर करता है-
(b) दो देशों के बीच की अपरिवर्तनशील पत्र मुद्राओं के बीच की विनिमय दर दोनों मुद्राओं की क्रयशक्ति के अनुपात में होती है
(c) मुद्रा का मूल्य उसकी क्रयशक्ति पर निर्भर करता है
(d) उपरोक्त में से कोई भी नहीं

Ans - (b) दो देशों के बीच की अपरिवर्तनशील पत्र मुद्राओं के बीच की विनिमय दर दोनों मुद्राओं की क्रयशक्ति के अनुपात में होती है


Some more topics :
Reactions

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ